Arohi Today News

Breaking News in Hindi

फोकस सैंपलिंग पर ज्यादा जोर, बाहर से आने वाले यात्रियों पर विभाग की पैनी नजर


फर्रुखाबाद ,आरोही टुडे न्यूज़
कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने भारत में दस्तक दे दी है। इसको लेकर यूपी में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। ओमिक्रॉन को लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए जिले में भी स्वास्थ्य विभाग ने इससे बचाव के निर्देश जारी किए हैं। यह कहना है मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सतीश चंद्रा का |
सीएमओ ने कहा कि जिले में सतर्कता बढ़ाते हुए सार्वजनिक और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर आरटीपीसीआर टेस्ट की शुरूआत कर दी है। स्वास्थ्य विभाग इसके लिए जिले में पूरी तरह से पुख्ता इंतजाम कर रहा है। बाहर से आ रहे सभी लोगों की रेलवे स्टेशन व बस स्टैण्ड पर भी जांच की जा रही है।
सीएमओ ने सभी से अपील की अपनी कोरोना की जाँच अवश्य कराएँ और टीकाकरण करा लें |
इसी क्रम में आवास विकास, दसमेश कालोनी, सेंट लारेंस स्कूल श्यामनगर, सिन्धी कालोनी, और तलैया मोहल्ला में विदेश से आने वाले लोगों की आरटीपीसीआर जाँच की गई | साथ ही सीएचसी बरौन की टीम ने निजी अस्पतालों में लोगों की कोरोना की जाँच की


सिविल चिकित्सालय लिंजीगंज के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ आरिफ सिद्दीकी ने कहा कि शहर में लगभग 12 लोग विदेश यात्रा करके आये जिनमें से 9 लोगों की जाँच की गई 1 व्यक्ति का मोबाईल नम्बर बंद आ रहा है और उसका पता भी गलत है| साथ ही एक व्यक्ति रिश्तेदारी में आया और मुंबई चला गया इस वजह से उसकी जाँच नहीं हो पाई है |
कोरोना फोकस सैम्पलिंग के नोडल डॉ दीपक कटारिया ने बताया कि नया वेरिएंट ओमिक्रॉन साउथ अफ्रीका में मिला है। अभी इसकी जाँच चल रही है। जब तक स्टडी नहीं हो जाती तब तक यह नहीं कहा जा सकता है कि यह कितना घातक है। अभी हमारे यहां कोई भी केस पॉजिटिव नहीं आया है। इसलिए हम लोग सेफ हैं। यह खतरनाक इसलिए है, क्योंकि यह बहुत जल्दी फैलता है। पहले जो कोविड का वायरस था, उसमें लोगों को बुखार‚ जुकाम और खांसी होती थी और कई लक्षण होते थे‚ लेकिन इसमें यह चीज नहीं है। इसमें कमजोरी बहुत आ जाती है साथ ही फेफड़े पर ज्यादा असर करता है।


डॉ कटारिया ने बताया कि जिले में फोकस सैम्पलिंग चल रही है जो 6 दिसम्बर तक चलेगी इसमें निजी और सरकारी अस्पताल, स्कूल, कालेज आदि में सैम्पलिंग की जा रही है |
डॉ कटारिया ने बताया कि जिले में अभी तक विदेश यात्रा करके लगभग 51 लोग आये हैं जिनमें से 39 लोगों की जाँच हो चुकी है| 4 लोग बाहर ही रह रहे हैं शेष लोगों को खोजा जा रहा है किसी ने अपना नम्बर गलत दिया तो किसी ने पता गलत लिखाया है |
डॉ कटारिया ने कहा कि 1 दिसम्बर से चले अभियान में अब तक लगभग 355 लोगों की जाँच हो चुकी है जिसमें से कोई भी कोरोना से ग्रसित नहीं मिला है |
इस दौरान सिविल अस्पताल लिंजीगंज से फार्मासिस्ट परितोष अवस्थी, जुगल किशोर दुबे आदि लोग मौजूद रहे |

43 Views