Download App from

कांग्रेस से बुआ हाथ न मिला लें, कहीं इसलिए तो बबुआ परेशान नहीं- उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विपक्षी गठबंधन आईएनडीआईए में शामिल होने या फिर न होने की चर्चाओं के बीच नेताओं ने बयानबाजी का सिलसिला भी लगातार जारी है। इसी क्रम में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस से बुआ हाथ न मिला लें, कहीं इसलिए तो बबुआ परेशान नहीं है। इस पर सपा नेता शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने डिप्टी सीएम केशव मौर्य को जवाब दिया है।

शिवपाल सिंह यादव का पलटवार-
शिवपाल सिंह यादव ने पलटवार करते हुए लिखा कि ‘सरकार’ आपकी स्वयं के संगठन और सरकार में तो चल नहीं रही है, इसलिए संगठन और सरकार के दायित्व से इतर निगाहें बहुत तेज रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि कहीं भाजपाई दंगल में बाहर कर दिए जाने की वजह से ‘दल और दिल’ बदलने का इरादा तो नहीं?
दरअसल, बीते दिनों बलिया में एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया ने अखिलेश यादव से मायावती के गठबंधन में आने से जुड़ा सवाल किया था। इस पर सपा चीफ ने कहा कि उसके बाद का भरोसा आप दिलाएंगे। बाद का भरोसा आप में से कौन दिलाएगा। अखिलेश के इस बयान के बाद सपा और बसपा में सियासी जंग शुरू हो गई। अखिलेश के इस बयान पर मायावती ने पलटवार किया था।
बसपा सुप्रीमो ने कहा था कि अपनी व अपनी सरकार की ख़ासकर दलित-विरोधी रही आदतों, नीतियों एवं कार्यशैली आदि से मजबूर सपा प्रमुख द्वारा बीएसपी पर अनर्गल तंज़ कसने से पहले उन्हें अपने गिरेबान में भी झांककर जरूर देख लेना चाहिए कि उनका दामन भाजपा को बढ़ाने व उनसे मेलजोल के मामले में कितना दाग़दार है।
मायावती ने कहा था कि तत्कालीन सपा प्रमुख द्वारा भाजपा को संसदीय चुनाव जीतने से पहले व उपरान्त आर्शीवाद दिए जाने को कौन भुला सकता है और फिर भाजपा सरकार बनने के बाद उनके नेतृत्व से समाजवादी पार्टी के नेतृत्व का मिलना-जुला जनता कैसे भुला सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसे में समाजवादी पार्टी सांप्रदायिक ताकतों से लड़े तो यह उचित होगा

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

× How can I help you?