Download App from

आधुनिक भारत की पहली मुस्लिम महिला शिक्षक व समाजसेवी थी फातिमा शेख – डॉ. अरशद मंसूरी

फर्रुखाबाद,आरोही टुडे न्यूज:- शिक्षक दो तरह के होते हैं- एक वे जो पढ़ाने के साथ लेखन कार्य भी करते हैं, दूसरे वे जो सिर्फ पढ़ाते हैं। फ़ातिमा शेख दूसरी तरह की शिक्षक थीं, यानि फुल टाइम टीचर और सावित्री बाई पहली तरह की। आज फ़ातिमा शेख की जयन्ती पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित कर भारत के प्रथम मुस्लिम देहदानी व भाजपा कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के पसमांदा नेता डॉ. अरशद मंसूरी ने कहा कि फुले दम्पति द्वारा खोले गए बालिका स्कूल में फातिमा शेख, सावित्री बाई फुले के साथ शिक्षक की भूमिका में थीं। उन्नीसवीं सदी परिवर्तन और सुधार की सदी थी। समाज का शिक्षित, जागरूक तबका अपनी-अपनी तरह से समाज को बदलने की कोशिश कर रहा था। उस समय शिक्षा के मिशन को स्त्रियों, दलितों और गरीबों से जोड़ा ज्योतिबा फुले, सावित्रीबाई, सगुणाबाई, फातिमा शेख, उस्मान शेख जैसे व्यक्तित्वों ने।
अछूत लड़कियों को शिक्षा : फ़ातिमा शेख का जन्म 9 जनवरी 1831 और मृत्यु अक्टूबर 1900 के आसपास हुई। फातिमा शेख के भाई उस्मान शेख ज्योतिबा फुले के मित्र थे। ज्योतिबा फुले के पिता गोविंदराव ने जब समाज के दबाव में आकर अपने बेटे (बहू द्वारा) को अछूत लड़कियों को पढ़ाने का काम बंद करने को कहा तो ज्योतिबा ने कहा, वह यह काम बंद नहीं करेंगे। तब गोविंदराव ने गुस्से में आकर उन्हें घर से निकल जाने को कह दिया।
ज्योतिबा उसी स्थिति में सावित्री बाई के साथ घर से बाहर निकल गए। उस समय उस्मान शेख ने न केवल फुले दम्पति को अपने घर में रहने की जगह दी बल्कि उन्हें स्कूल खोलने के लिए अपना घर भी दे दिया। उसी दौरान उस्मान शेख के घर में रात्रिकालीन प्रौढ़ शिक्षण कार्य भी शुरू हुआ। इस स्कूल में स्त्री और पुरुष साथ-साथ पढ़ते थे। फ़ातिमा शेख ने सावित्रीबाई फुले के साथ अहमदनगर के एक मिशनरी स्कूल में टीचर्स ट्रेनिंग भी ली थी। फ़ातिमा शेख और सावित्री बाई ने लोगों के बीच जाकर उन्हें अपनी लड़कियों को पढ़ाने के लिए प्रेरित किया। इस कार्य में कुछ लोगों ने उनकी सहायता भी की। दूसरी ओर ज़्यादातर लोगों ने उनका विरोध किया फ़ातिमा शेख का फुले दम्पति के द्वारा किए जा रहे ज़्यादातर कामों में सहयोग रहा। 1856 में सावित्रीबाई जब बीमार पड़ गई तो वह कुछ दिन के लिए अपने पिता के घर चली गईं। वहां से वह ज्योतिबा फुले को पत्र लिखा करती थीं। उन पत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार फ़ातिमा शेख ने उस समय स्कूल के प्रबंधन की ज़िम्मेदारी भी उठाई और स्कूल की प्रधानाचार्या भी बनीं।

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

× How can I help you?