Download App from

बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र में कई गांव बने टापू , गृह स्वामियों ने छत पर बनाया आशियाना

(डॉ0एस0बी0एस0 चौहान)
चकरनगर/इटावा, क्षेत्र में चम्बल-सिंध नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से अब प्रभावित गांवों के लोगों में दहशत बढ़ने लगी है। कई गांव बाढ़ के पानी से पूरी तरह घिर गए हैं। रिहायशी जगहों पर जलभराव हो गया है। करीब एक दर्जन गांव बाढ़ के चलते टापू बने हुए हैं। जिनमें अभी लगातार येन केन प्रकारेण जान को जोखिम में डालकर लोगों का आवागमन हो रहा है।

पिछले कई दिनों से सिंध व चंबल का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। उपरोक्त दोनों नदियों के जलस्तर बढ़ने से यमुना और कुंवारी में जल रिटर्न हो रहा है जिससे दबाव बन कर यह दोनों नदियां भी बेतहाशा उफान पर हैं इन नदियों का पानी जलधारा रुकने के कारण उल्टा बह रहा है जिससे लगातार एक दर्जन से भी अधिक गांवों में बाढ़ का असर होता दिखाई देता जा रहा है।तटवर्ती गांव करीब एक दर्जन से ज्यादा प्रभावित हैं। बुधवार को गौहानी,कांयछी,ककरैया,व खिरीटी में यमुना का पानी घरों तक पहुंचने लगा। आबादी के भीतर पानी घुसने के बाद लोग घबराए हुए हैं। गौहानी के ब्रह्मानंद तिवारी, शिवकुमार सविता, पिंटू सविता, संजय सिंह चौहान,भूरे पंडित, मजरा ककरहिया के मुन्नीलाल कढोरे, निक्सू, रामलक्षन, भारत,मुनीम आदि का यह कहना है कि हम लोगों पर पिछली आई बाढ़ में जो मुसीबत पड़ी थी उससे अभी निजात नहीं मिल पाई कि दोबारा बाढ़ ग्रसित फिर हो गए। पिछली बार में भी प्रशासन के द्वारा किसी प्रकार की कोई राहत नहीं दी गई थी आज भी कई लोग गम और परेशानी के चलते भूखे रहते हैं लेकिन कहीं से कोई खाने का भी इंतजाम नजर नहीं आ रहा है।यमुना का जलस्तर निरंतर बढ़ रहा है। फसलें जलमग्न हो गई हैं। कई गांवों का तहसील मुख्यालय से संपर्क टूट गया है। मरीजों को इलाज कराने में दिक्कतें हो रही हैं। विषैले सर्प, बिच्छू, विषखापर आदि जीव खुलेआम विचरण कर रहे हैं। बाढ़ से भरेह, हरौली बहादुरपुर, नीमा डांडा, चकरपुरा, अम्दापुर, गांव खेरापुरा, गढा कास्दा, नीवी गांव चारों तरफ से घिर गया है।भारेश्वर बाबा मंदिर परिसर डूब चुका है। चकरनगर संपर्क मार्ग भी अवरुद्ध है। गांव का आधा भूभाग और खेती जल के आगोश में है।
बजरा,अरहर व तिल की फसल जलमग्न होकर बर्बाद हो चुकी है।रोड पर जलभराव होने से कई गांवों का संपर्क टूटा हुआ है।

 

प्रभावित क्षेत्रों में प्रशासनिक टीमें जुटीं

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के गांवों में प्रशासनिक टीमें पिछले कई दिनों से जुटी हुई हैं। कर्मचारी हर पाल की जानकारी अधिकारियों तक पहुंचा रहे हैं। चकरनगर इलाके में जिलाधिकारी अवनीश राय व बड़े पुलिस कप्तान जय प्रकाश सिंह,एसडीएम मलखान सिंह व तहसीलदार ने पैदल भ्रमण कर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का जायजा लिया। ग्रामीणों से उनकी समस्याएं जानीं। कर्मचारियों को निर्देश दिए कि सभी लोग संबंधित गांवों में मौजूद रहकर निगरानी करें।

गांवों में भाजपाइयों ने मुकेश सिंह राजावत के नेतृत्व में पहुंचकर जानी समस्याएं

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के गांवों में भाजपा के स्थानीय वरिष्ठ और कद्दावर नेता मुकेश सिंह राजावत ने स्वयं कई स्थानों पर पहुंचकर लोगों की समस्याओं को जाना और उनसे शासन प्रशासन के द्वारा मदद का आश्वासन दिया कहीं-कहीं पर उसी वक्त फोन से संबंधितअधिकारी को अवगत भी कराया। भूतपूर्व ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि मुकेश सिंह राजावत ने बताया कि जहां जहां पर बाढ़ का प्रकोप है वहां पर हमारे सभी कार्यकर्ता बूथ लेवल के बूथ अध्यक्ष लगे हुए हैं हमारा प्रशासन भी कदम से कदम मिलाकर सहयोग कर रहा है और यदि कहीं पर प्रशासन के द्वारा कोई लापरवाही बर्ती जाएगी तो उसके लिए मैं स्वयं आगे खड़ा हूं और किसी प्रकार की कोई भी लापरवाही नहीं होने दी जाएगी क्योंकि हमारे जिला अधिकारी इस समय डूब गांव के लिए विशेष संवेदनशील हैं कहीं-कहीं पर तो उन्होंने जिलाधिकारी का और अपना नंबर ग्रामीणों को देकर सांत्वना दी कि यदि कोई अधिकारी लापरवाही करता है या सहयोग की भावना नहीं करता है तो तत्काल इन नंबरों पर सूचना दी जाए।

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

× How can I help you?