लखनऊ।उत्तर प्रदेश विधानसभा सत्र के तीसरे दिन कार्यवाही शुरू होते ही समाजवादी पार्टी के मुखिया व नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने आज़म खान के जौहर यूनीवर्सिटी की जांच को लेकर मुद्दा उठाया।उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी की जांच तो ऐसे हो रही है जैसे कोई बम रख दिया हो।हालांकि अखिलेश को बीच में टोकते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि बाद में मुद्दा उठाएं कल आपको सुना गया था।

विधानसभा सत्र के तीसरे दिन भी अखिलेश यादव ने उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक को सदन में घेरा।उन्होंने कहा कि नेता सदन और डिप्टी सीएम के बीच तालमेल नहीं है।लखनऊ में सबसे ज्यादा छापे मारे गए थे। उनका क्या हुआ।इसपर डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक जैसे ही बोलने के लिए खड़े हुए तो सपा ने सदन से वॉक आउट कर दिया।

सदन में सपा मुखिया अखिलेश यादव के आरोपों का जवाब देते हुए डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने कहा कि अखिलेश यादव जी कमरों से सरकार नहीं चलती। जनता के बीच में आइए।नेता विरोधी दल ने जिस भाषा का प्रयोग किया वो एक सड़कछाप की भाषा थी।ब्रजेश पाठक ने शायराना अंदाज में कहा कि समझने लगे थे कि आस्तीन छिपा लेगी सब गुनाह उनके, लेकिन गजब हुआ कि सनम बोलने लगे,नफरत की एक बूंद ही माहौल बदनुमा कर गयी,जहां से आया है ये झूठ और फरेब का जहर, वो दरिया कैसा होगा।

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने अखिलेश के आरोपों का जवाब देते हुए आगे कहा कि समाजवादी पार्टी ने स्वास्थ्य विभाग को लूट का अड्डा बनाया था।मैं अस्पतालों का निरीक्षण करता हूं। सपाई एसी कमरों के बाहर नहीं निकलते। सपा के कार्यकाल में डॉक्टर ड्यूटी से गायब रहते थे।

आपको बता दें कि सपा मुखिया अखिलेश यादव ने मंगलवार को सदन में ब्रजेश पाठक को छापामार मंत्री बताया था। उन्होंने कहा था कि इतने सारे गलत ट्रांसफर हो ग‌ए,लेकिन इन्हें पता ही नहीं,फिर छापेमारी किस बात की थी।अरे छापा मंत्री बन गए कार्रवाई कब करोगे।इनकी स्थिति झोला छाप डॉक्टरों जैसी है जिन्हें कोई नहीं पूछता।

Leave a Reply

Your email address will not be published.