कायमगंज, फर्रुखाबाद,आरोही टुडे संवाददाता

पहले से ही ज्ञापन सौंप कर जिन समस्याओं के समाधान की भारतीय कृषक एसोसिएशन मांग करता रहा। लेकिन प्रशासन स्तर से या शासन स्तर से कोई उचित परिणाम न मिलने पर अपनी घोषणा के अनुसार किसान संगठन ने आज तहसील परिसर में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया। धरना दे रहे अनशनकारी किसानों का कहना है कि उन्होंने क्षेत्र के गांव अका खेड़ा में व्याप्त भीषण गंदगी से निजात पाने के लिए गांव के पास में ही पड़ी खाली भूमि पर सोख पिट बनवाने के लिए भूमि उपलब्ध कराने की मांग की थी। लेकिन उप जिलाधिकारी कायमगंज ने इस समस्या की ओर कोई ध्यान नहीं दिया है।

वहीं उन्होंने फर्रुखाबाद- शिकोहाबाद ब्रांच लाइन की पटना स्टेशन का ठेका खत्म कर इसे पूर्ण स्टेशन का दर्जा दिए जाने ,कायमगंज रेलवे स्टेशन पर सभी मेल गाड़ियों के ठहराव की व्यवस्था कराने, कस्बा कायमगंज की मेन बाजार स्थित पुरानी गल्ला मंडी के पास मंदिर कॉलेज स्कूल आदि होने के बावजूद भी यहां बकरा बकरी का गोश्त, मुर्गी का मीट, बेचने की तमाम दुकाने हैं। यहां से निकलने वाले लोगों को साथ ही स्कूली बच्चों को इस कसाई वाडे की दुर्गंध से परेशानी होती है। इसलिए यहां का मीट बाजार कहीं दूसरी जगह स्थानांतरित करने , एवं मेहनतकस किसानों के बकाया गन्ने का मूल्य अविलंब भुगतान किए जाने के साथ ही, चीनी मिल कायमगंज की पेराई क्षमता का विस्तार करने तथा आलू व अन्य फसलों की बुआई से पहले पूरे जनपद फर्रुखाबाद में उर्वरक की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित कराने के साथ ही खाद पर हो रही कालाबाजारी रोकने जैसी माँगें प्रशासन के सामने रखते हुए धरना प्रदर्शन शुरु कर दिया है।

किसानो का आरोप है कि इससे पहले भी इन मुद्दों पर उन्होंने प्रशासन को ज्ञापन सौंप कर समस्या निराकरण न की मांग थी। लेकिन हर बार प्रशासन ने किसानों की उपेक्षा करते हुए कोई ध्यान नहीं दिया। इसलिए बे धरना प्रदर्शन करने को विबस हो रहे हैं । आज तो किसानों ने जिस तरह यहीं लंगर की भी व्यवस्था की है। उसे देखते हुए ऐसा लग रहा है, कि धरना तब तक जारी रहेगा ,जब तक कि कोई सही परिणाम सामने ना जाए। धरना स्थल पर किसान नेता सुनील कुमार दुबे, मुन्ना लाल सक्सेना, राजाराम शर्मा, रामदास बर्मा एडवोकेट, रागिव हुसैन खान, रामवीर, महिपाल सिंह, भगवंत दयाल, अनिल कुमार प्रधान सहित काफी संख्या में संगठन के पदाधिकारी सदस्य एवं क्षेत्रीय किसान मौजूद हैं।

संवाददाता अभिषेक गुप्ता की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.