Download App from

जन्म जन्मांतर के पुण्य के बाद मिलता मानव शरीर : अनूप महाराज

जिला हरदोई के ग्राम अखबेलपुर मलवा में चल रही संगीतमय श्रीमद् भागवत के विश्राम दिवस पर असलापुर धाम से पधारें सुप्रसिद्ध कथावाचक परम पूज्य अनूप ठाकुर जी महाराज ने भागवत कथा के अंतिम दिन कई प्रसंगों का विस्तार से वर्णन किया। इसमें ऊषा चरित्र, नृग चरित्र, सुदामा प्रसंग, परीक्षित मोक्ष की कथा का बड़े ही रोचक ढंग से वर्णन किया।
कथा के दौरान व्यास अनूप महाराज ने श्रोताओं को भागवत को अपने जीवन में उतारने की अपील की। साथ ही सुदामा चरित्र के माध्यम से श्रोताओं को श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता की मिसाल पेश की। समाज को समानता का संदेश दिया। इस कड़ी में महाराज ने बताया श्रीमद् भागवत कथा का सात दिनों तक श्रवण करने से जीव का उद्धार हो जाता है, वहीं इस कथा को कराने वाले भी पुण्य के भागी होते हैं। अंतिम दिन सुखदेव द्वारा राजा परीक्षित को सुनाई गई श्रीमद् भागवत कथा का पूर्णता प्रदान करते हुए विभिन्न प्रसंगों का वर्णन किया।
अनूप ठाकुर महाराज ने सात दिन की कथा का सारांश बताते हुए कहा कि जीवन कई योनियों के बाद मिलता है और इसे कैसे जीना चाहिए इसके के बारे में भी उपस्थित भक्तों को समझाया। सुदामा चरित्र को विस्तार से सुनाते हुए श्रीकृष्ण सुदामा की मित्रता का वर्णन करते हुए बताया कि कैसे बिना याचना के कृष्ण ने गरीब सुदामा की स्थिति को सुधारा। अंत में कृष्ण के दिव्य लोक पहुंचने का वर्णन किया। महाआरती के बाद भोग वितरण किया गया! इस मौके पर परिक्षित राकेश सिंह ने सपत्नीक सपरिवार व्यास पूजन किया भानुप्रताप सिंह गुड्डू, सुधीर सिंह, ईशू सिंह, सत्येंद्र सिंह, राजू सिंह चौहान, सुशील सिंह, पार्थ सिंह, हिमांशु सिंह, राहुल सिंह, शिवबहादुर सिंह, महेंद्र सिंह फौजी, दिनेश सिंह कोटेदार समेत हजारों की संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहें।

 

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल

× How can I help you?