Download App from

शर्म, संकोच छोड़ो अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र से परिवार नियोजन के साधन लो-सांसद मुकेश राजपूत

जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर मनाया गया विश्व जनसंख्या दिवस
डॉ राममनोहर लोहिया चिकित्सालय महिला में सांसद ने फीता काटकर किया विश्व जनसंख्या दिवस का शुभारम्भ
स्टॉल लगा कर बॉस्केट ऑफ च्वाइस के द्वारा परिवार नियोजन के साधनों के प्रति किया गया जागरूक

फर्रुखाबाद , आरोही टुडे न्यूज़

विश्व जनसँख्या दिवस सोमवार को परिवार नियोजन परामर्श दिवस के रूप में जनपद की समस्त स्वास्थ्य इकाईयों पर मनाया गया। इस अवसर पर जनपद सांसद मुकेश राजपूत ने डॉ राममनोहर लोहिया चिकित्सालय महिला में फीता काट कर सेवा प्रदायगी पखवाड़े का शुभारम्भ किया । समस्त स्वास्थ्य इकाइयों पर स्टाल लगाकर भी लोगों को परिवार नियोजन के साधनों के बारे में जानकारी दी गयी और इन्हें अपनाने के बारे में प्रेरित किया गया।
इस दौरान सांसद ने कहा कि हम सभी को परिवार नियोजन के साधन मांगने में शर्म लगती है जबकि सभी साधन स्वास्थ्य केंद्रों पर निशुल्क उपलब्ध हैं l साथ ही कहा कि जिनका परिवार पूर्ण हो गया है वो स्थाई विधि महिला और पुरूष नसबंदी को अपना सकते हैं इसमें डरने की कोई बात नहीं है ।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अवनींद्र कुमार ने कहा कि परिवार की खुशहाली, शिक्षा, स्वास्थ्य और तरक्की तभी संभव है, जब परिवार सीमित होगा। विकास के उपलब्ध संसाधनों का समुचित वितरण और बढ़ती जनसँख्या दर के बीच संतुलन कायम करने के उद्देश्य से आज सबसे अधिक जरूरत जनसँख्या स्थिरीकरण की है। परिवार को सीमित रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग के पास बास्केट ऑफ़ च्वाइस का विकल्प मौजूद है, जिसमें स्थायी और अस्थायी साधनों को शामिल किया गया है। इन अस्थायी साधनों में से अपनी पसंद का साधन चुनकर शादी के दो साल बाद ही बच्चे के जन्म की योजना बना सकते हैं। दो बच्चों के जन्म में कम से कम तीन साल का अंतर भी रख सकते हैं। दो बच्चों के जन्म में पर्याप्त अंतर रखना मां और बच्चे दोनों की बेहतर सेहत के लिए बहुत जरूरी है। जब परिवार पूरा हो जाए तो स्थायी साधन के रूप में नसबंदी का विकल्प चुन सकते हैं ।
इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. दलवीर सिंह ने कहा कि समुदाय में परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता लाने के लिए फ्रंट लाइन कार्यकर्ताओं के माध्यम से दो चरणों में परिवार नियोजन पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसके पहले चरण में 27 जून से 10 जुलाई तक दम्पति सम्पर्क पखवाड़ा मनाया गया, जिसके तहत लक्षित दम्पति को चिन्हित कर परिवार नियोजन साधनों को अपनाने के प्रति प्रेरित किया गया। अगला चरण जनसँख्या स्थिरता पखवाड़ा का आज से शुरू हो रहा है जो 24 जुलाई तक चलेगा । इसके तहत लक्षित दम्पति को सेवा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि परिवार नियोजन के बारे में किशोर-किशोरियों को भी जागरूक करने की जरूरत है ताकि भविष्य में वह सही समय पर सही कदम उठाने के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सकें।
पीएसआई इंडिया से मैनेजर प्रोग्राम अमित वाजपेई ने जानकारी देते हुए कहा कि आशा कार्यकर्ता अपने पास ड्यू लिस्ट बनाएं जिसमेें देखें की किसको परिवार नियोजन के साधनों की जरूरत है उनको इस बारे में जागरुक करें l

इस अवसर पर लाभार्थी सीमा ने कहा कि डॉ राममनोहर लोहिया चिकित्सालय महिला पर आयोजित कार्यक्रम में पति के साथ पहुंचकर परिवार नियोजन के साधनों के बारे में जानकारी हासिल की । अभी हमारी शादी के छह महीने हुए हैं और अभी हमको बच्चा नहीं चाहिए, इसके लिए हमने गर्भनिरोधक गोली के विकल्प को चुना है।
इस मौके पर डॉ राममनोहर लोहिया चिकित्सालय के सीएमएस डॉ कैलाश दुल्हानी, डॉ राजकुमार गुप्ता, डीपीएम कंचन बाला, डीसीपीएम रणविजय प्रताप सिंह, परिवार नियोजन के जनपद सलाहकार विनोद कुमार, शहरी स्वास्थ्य समन्वयक राजीव पाठक, टीएसयू से रिजवान अली सहित बड़ी संख्या में आशा कार्यकर्ता और लाभार्थी मौजूद रहे l

Share this post:

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल